Breaking News

DNA टेस्ट से पकड़े गए दोनों रेपिस्ट:भीलवाड़ा में पड़ोसी युवकों ने घर के पास किया था मूक बधिर से गैंगरेप, 1 का डीएनए भ्रूण से मैच

भीलवाड़ा में मूकबधिर युवती से गैंग रेप के मामले में चित्तौड़गढ़ पुलिस ने दो आरोपियों को हिरासत में लिया है। दोनों भीलवाड़ा के रहने वाले हैं और पड़ोसी हैं। आरोपी जानते थे कि पीड़िता सुन और बोल नहीं सकती। इसी का फायदा उठाकर दोनों ने तीन महीने पहले उससे गैंगरेप किया था। पुलिस ने संदेह के आधार पर दोनों को हिरासत में लिया और डीएनए टेस्ट करवाया गया। इसमें एक आरोपी की रिपोर्ट भ्रूण से मिली। इस मामले में चित्तौड़ पुलिस ने दोनों आरोपियों भीम केसरपुरा हाल चंद्रशेखर आजाद नगर निवासी अमरसिंह रावत व केकडी बगेरा हाल प्रताप नगर निवासी विष्णु कलाल को हिरासत में ले लिया है। चित्तौड़गढ़ एसपी प्रीति जैन ने बताया कि वारदात को भीलवाड़ा में अंजाम दिया गया। ऐसे में भीलवाड़ा पुलिस दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करेगी।

इससे पूर्व 24 जनवरी को मामला सामने आने के बाद पीड़िता ने इशारों में घटना बताई। पुलिस को लगा घटना चित्तौड़गढ़ की है तो पीड़िता को वहां ले जाया गया। वहां पीड़िता ने इशारों ने बताया कि उसके साथ भीलवाड़ा में गैंगरेप हुआ था। पुलिस जांच करते हुए पीड़िता के भीलवाड़ा वाले किराए के मकान में गई। यहां आस-पास रहने वाले लोगों और संदिग्ध व्यक्तियों से पूछताछ की। इस दौरान जानकारी मिली कि पीड़िता मूकबधिर महिला पूर्व में उसी कॉलोनी में एक अन्य मकान में किराए पर रहती थी। पड़ोस के किराए में रहने वाले एक युवक विष्णु कुमार पुत्र बृजमोहन कलालका पीड़िता के घर आना-जाना था। पीड़िता ने इशारों में बताया कि एक बाड़े में उसके साथ रेप किया गया। विष्णु बाड़े के पास परिवार के साथ रहता था।

दीपावली के आस-पास किया था गैंग रेप
विष्णु कलाल पकड़े जाने के डर से फरार हो गया था। पुलिस से बचने के लिए मोबाइल फोन भी बंद कर दिया। दोनों जिलों की पुलिस ने मिलकर आरोपी को हिरासत में लिया। विष्णु ने बताया कि दिवाली के आसपास उसने और अमरसिंह रावत ने पीड़िता के साथ गैंगरेप किया था।

Leave a Comment

error: Content is protected !!